एक स्विच केवल एक डिवाइस से प्लग की गई जानकारी को दूसरे डिवाइस में प्लग करके भेज सकता है। एक राउटर दूर के नेटवर्क पर transportation को निर्देशित कर सकता है। यह कई नेटवर्क के बीच, या विभिन्न प्रकार के नेटवर्क के बीच जानकारी को रिले कर सकता है। यह अन्य राउटर के साथ कम्यूनिकेट  कर सकता है ताकि किसी डिवाइस से जानकारी प्राप्त करने का सबसे तेज़ तरीका निर्धारित किया जा सके जो इससे जुड़ा नहीं है, लेकिन इसके बजाय एक अलग राउटर से जुड़ा है। यह नेटवर्क ट्रैफिक की Control और One Shape  कर सकता है।

 Read Also स्विच क्या है,Router क्या है?


स्विच और राऊटर हमारे नेटवर्किंग टुटोरिअल का अगला हिस्सा है , यह नेटवर्किंग में बहुत ही अहम् किरदार निभाता है , क्योकि अधिकतर इंटरव्यू सेसन में इनसे अधिकतर सवाल पूछे जाते है . हेलो दोस्तों मैं हु अनुराग राय और आज के इस पोस्ट बहुत सारी तर्क के बारे में जानेंगे जो हमें राऊटर और स्विच में अंतर स्पष्ट करता इस लिए आप पोस्ट को अंत तक पढ़े . यदि आपने हमें गूगल+ पर फॉलो नहीं किया है तो हमें फॉलो करे और रोज नए अपडेट अपने मेल में प्राप्त करे .




फॉलो करने के लिए क्लिक करे .







राऊटर और स्विच में क्या अंतर है ?



राऊटर और स्विच में क्या अंतर है ?



  1. स्विच का प्रयोग लोकल एरिया नेटवर्किंग में किया जाता है लेकिन राऊटर का प्रयोग वाइड एरिया नेटवर्क में किया जाता है .
  2. स्विच का प्रयोग में नेटवर्क लगे एन्ड डिवाइस(Laptop, Desktop And Printer etc) को कनेक्ट करने के लिए किया जाता है . जबकि राऊटर का प्रयोग दो नेटवर्क को आपस में कनेक्ट करने के लिए किया जाता है .
  3. राऊटर कर प्रयोग लोकल एरिया नेटवर्किंग में भी किया जाता है लेकिन तब जब दो नेटवर्क को जोड़ना होता है .
  4. स्विचेस एक नेटवर्क में जुड़े डिवाइस को कनेक्ट करते है इसलिए इसे नेटवर्किंग डिवाइस कहा जाता है जबकि राऊटर दो या दो से अधिक नेवोर्किंग डिवाइस को कनेक्ट करने के लिए किया जाता है इस लिए इसे इंटर- नेटवर्किंग डिवाइस कहा जाता है . 
  5. स्विच ओएसआई लेयर में लेयर 2  पर कार्य करता है जिसे हम डाटा लिंक लेयर के नाम से जानते है , जबकि राऊटर लेयर 3 (नेटवर्क लेयर ) पर कार्य करता है . 
  6. स्विच में केवल एक ब्रॉडकास्ट डोमेन होता है , जबकि राऊटर में पर पोर्ट ब्रॉडकास्ट डोमेन होता है .
  7. स्विच डाटा ट्रांसफर करने के लीये मैक एड्रेस का प्रयोग करता है , और डाटा को फ्रेम के फॉर्म  में सेंड करता है जबकि राऊटर आईपी एड्रेस का प्रयोग करते है और डाटा को पैकेट के फॉर्म में सेंड करता है .
  8. स्विचेस अपने वर्किंग के लिए CAM टेबल का प्रयोग करते हे जबकि राऊटर रूटिंग टेबल का प्रयोग करते है .



  1. ब्रिज क्या होता है ?
  2. नेटवर्किंग की परिभासा क्या है ?
  3. नेटवर्क क्या है ?
  4. राउटिंग कैसे कार्य करता है ?
  5. वायरलेस मीडिया क्या होता है ?
  6. केबल मीडिया कैसे कार्य करता है ?
  7. पियर टू पियर नेटवर्क क्या होता है कैसे कार्य करता है ?
  8. सर्वर क्या होता है ? कार्य कैसे करता है ?




  मुझे पूर्ण आशा है की आपको इस पोस्ट में के बारे में सही तरीके समझा पाया हूँ. आप सभी पाठको से अनुरोध है की आप इस पोस्ट को अपने फ्रेंड और रिश्तेदारों में शेयर करे शायद आप एक शेयर किसी मदद कर सके , किसी की तलाश पूरी हो जाये , मुझे आप सब की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मै और भी रोज नए नए जानकारी आपके साथ शेयर कर सकू.

हमारा हमेसा से ही यही प्रयास रहा है की मै अपने ब्लॉग के पाठको को हर तरफ से मदद करू . यदि आपको पोस्ट में किसी भी प्रकार के संदेह (डाउट) हो तो आप हमसे बेझिझक पूछे हम आप की मदद करने की पूरी कोशिस करेंगे . आपको हमारा यह पोस्ट कैसे लगा कमेंट बॉक्स में जरूर बताये .


Follow Us On Social Media - facebook   twitter  linkedin  youtube  instagram  
Reactions:

Post a Comment

Blogger

नए पोस्ट की जानकारी सीधे ई-मेल पर पायें

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: