क्या शिक्षण के लिए B.Ed. आवश्यक है? B.Ed. is necessary for teaching.?

निश्चित रूप से, यदि आपके पास भारतीय विद्यालयों में शिक्षण का इरादा है, तो आपके पास बीएड की डिग्री होनी चाहिए। हम सभी जानते हैं कि शिक्षक की नौकरी के लिए आवेदन करने वाले  उम्मीदवारों के लिए आवश्यक शैक्षिक योग्यता में कोई निर्धारित पैटर्न या एकरूपता नहीं है। B.Ed सभी सरकारी स्कूलों, केंद्रीय विद्यालयों और सेना / एयरफोर्स स्कूलों में पढ़ाने के लिए अनिवार्य योग्यता है। अपने व्यक्तिगत अनुभव से मैं यह साझा करना चाहूंगा कि कई सीबीएसई / आईसीएसई निजी स्कूल बी.एड योग्य शिक्षकों को पसंद करते हैं, बल्कि उनमें से कुछ School  गैर बी.एड. शिक्षकों में Interest नहीं करते हैं। यदि वे आपको नौकरी पर रखते हैं, तो वेतन उन लोगों से अलग होगा जो बीएड योग्य हैं। यदि आपको एक स्कूल में शिक्षक के रूप में काम करना है तो बीएड की डिग्री हासिल करना उचित है। B.ed (बैचलर ऑफ एजुकेशन) शिक्षण में एक डिग्री प्रोग्राम है जो आपको कक्षा 6 वीं से 12 वीं तक पढ़ाने के योग्य बनाता है। B.ed करने के लिए योग्यता किसी भी UGC  विश्वविद्यालय से न्यूनतम 50% के साथ स्नातक (Graduation) है।
क्या शिक्षण के लिए  B.Ed. आवश्यक है?  B.Ed. is necessary  for teaching.?
एक अच्छे स्कूल में जाने के लिए, और नियमित रूप से वेतन मिलता है। बी.एड. कार्यप्रणाली सीखने में मदद करता है और शिक्षण पेशे में अधिक कुशल बनाता है। एक प्रतिष्ठित और सरकार, मान्यता प्राप्त संस्थान से डिग्री प्राप्त करना भी महत्वपूर्ण है।
बी.एड. में कोई जरुरी नहीं है की बी.एड. आपका रेगुलर होना चाहिए . आप रेगुलर या डिस्टेंस दोनों में से किसी एक को ले सकते है .लेकीन ध्यान रहे बी.एड. आप वही से करे जो मान्यता प्राप्त हो . और जिसकी डिग्री प्रत्येक जगह मान्य हो .
Reactions:

Post a comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Sponsorship Ad

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: