Domestic Institutional Investors (diis) एक ऐसा शब्द है जो भारतीय म्यूचुअल फंड कंपनियों, जीवन बीमा कंपनियों और बैंकों को संदर्भित करता है। परंपरागत रूप से, भारतीय शेयर बाजार स्थायी रैलियों के लिए देश के बाहर से धन प्रवाह पर निर्भर था। ये खिलाड़ी विदेशी वित्तीय संस्थान हैं जो भारतीय शेयर बाजारों में व्यापार करते हैं। एफआईआई का भारतीय शेयर बाजार में लगातार दबदबा रहा है और इसका उदय और गिरावट सीधे भारत में उनके निवेश से संबंधित है।

घरेलू संस्थागत निवेशक क्या हैं? [What is Domestic Institutional Investors?] [In Hindi]

DII का तात्पर्य 'Domestic Institutional Investors' से है। डीआईआई अपने देश की वित्तीय परिसंपत्तियों और प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं। वे प्रतिभूतियों और परिसंपत्तियों में व्यापार करने के लिए जमा धन का उपयोग करते हैं। ये निवेश देश में राजनीतिक और आर्थिक प्रवृत्तियों से प्रभावित हैं। विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) के अलावा, डीआईआई भी शेयर बाजारों के प्रदर्शन में निर्णायक भूमिका निभाते हैं और अर्थव्यवस्था में शुद्ध निवेश प्रवाह को प्रभावित करते हैं।
Domestic Institutional Investors क्या हैं?
institutional investment का अर्थ है देश की वित्तीय या वास्तविक संपत्ति में बैंकों, बीमा कंपनियों और म्यूचुअल फंड जैसे संस्थानों द्वारा किया गया निवेश। Dividend Signaling क्या है?

भारत में डीआईआई के प्रकार [Type of DII?] [In Hindi]

भारत में घरेलू संस्थागत निवेशकों के कुल चार समूह हैं। ये:
  • म्यूचुअल फंड्स
म्यूचुअल फंड शेयरधारकों के जमा निवेश को कई तरह की संपत्तियों और प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं। निवेशक की जोखिम सहनशीलता और जरूरतों के आधार पर खरीद के लिए कई प्रकार के फंड उपलब्ध हैं। म्यूचुअल फंड लचीले और बहुमुखी हैं जो उन्हें शुरुआती लोगों के लिए आदर्श बनाते हैं। डीआईआई के पास अपने वित्तीय लक्ष्यों और जोखिम सहनशीलता के आधार पर अपने फंड चुनने और चुनने का विकल्प होता है।
  • बीमा कंपनियां
समग्र डीआईआई इक्विटी होल्डिंग्स में बीमा कंपनियों का बहुत बड़ा योगदान है। वे अपने जोखिम को कवर करने के लिए पॉलिसी धारकों द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम का निवेश करते हैं।
  • स्थानीय पेंशन निधि
भारत की सरकार द्वारा संचालित पेंशन योजनाएं जैसे राष्ट्रीय पेंशन योजना, भविष्य लोक निधि, और कर्मचारी भविष्य निधि संगठन भारत के डीआईआई में बड़े पैमाने पर योगदानकर्ता हैं।
  • बैंकिंग और वित्तीय संस्थान
भारत के बैंक और वित्तीय संस्थान भी domestic institutional investment में योगदान करते हैं।

'घरेलू संस्थागत निवेशक (डीआईआईएस)' की परिभाषा [Definition of Domestics Institutional Investment] [In Hindi]

घरेलू संस्थागत निवेशक वे संस्थागत निवेशक होते हैं जो उस देश की प्रतिभूतियों और अन्य वित्तीय परिसंपत्तियों में निवेश करते हैं, जहां वे स्थित हैं।

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Accounting Software

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: