संविदात्मक और विस्तारवादी राजकोषीय नीति के बीच अंतर हिंदी में [Difference Between Contractionary and Expansionary Fiscal Policy In Hindi]

संकुचनकारी और विस्तारवादी राजकोषीय नीतियां दो प्रकार की राजकोषीय नीतियां हैं जिनका उपयोग सरकारें आर्थिक गतिविधि के स्तर को प्रभावित करने और व्यापक आर्थिक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए करती हैं। इन नीतियों में अर्थव्यवस्था को धीमा करने या उत्तेजित करने के लिए सरकारी खर्च, कराधान और उधार में बदलाव शामिल हैं। इस लेख में, हम संकुचनकारी और विस्तारवादी राजकोषीय नीतियों के बीच अंतर, वित्त में उनके महत्व और समग्र अर्थव्यवस्था पर उनके प्रभाव का पता लगाएंगे।
  • संविदात्मक राजकोषीय नीति (Contractionary Fiscal Policy):
अर्थव्यवस्था में कुल मांग के स्तर को कम करने और मुद्रास्फीति के दबाव को नियंत्रित करने के लिए सरकार द्वारा संकुचनकारी राजकोषीय नीति लागू की जाती है। संकुचनशील राजकोषीय नीति का प्राथमिक लक्ष्य अत्यधिक गर्म अर्थव्यवस्था और बढ़ती मुद्रास्फीति को रोकने के लिए आर्थिक विकास को धीमा करना है। इस नीति का उपयोग आमतौर पर उच्च मुद्रास्फीति और आर्थिक विस्तार की अवधि के दौरान किया जाता है।
संकुचनकारी राजकोषीय नीति की प्रमुख विशेषताओं में शामिल हैं:
  • सरकारी खर्च कम करना (Reducing Government Spending): सरकार अर्थव्यवस्था में समग्र मांग को कम करने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों और सेवाओं पर अपना खर्च कम कर देती है। कम खर्च करके, सरकार अर्थव्यवस्था में प्रवाहित होने वाली धनराशि को कम कर देती है, जिससे मुद्रास्फीति के दबाव को रोकने में मदद मिल सकती है।
  • करों में वृद्धि (Increasing Taxes): सरकार डिस्पोजेबल आय को कम करने और उपभोग और निवेश खर्च को कम करने के लिए व्यक्तियों और व्यवसायों पर कर बढ़ाती है। उच्च करों के परिणामस्वरूप उपभोक्ता और व्यावसायिक खर्च कम हो जाता है, जिससे कुल मांग में कमी आती है।
  • बजट घाटे को कम करना (Reducing Budget Deficits): संकुचनकारी राजकोषीय नीति का उद्देश्य बजट घाटे को कम करना या बजट अधिशेष बनाना है। यह सरकारी राजस्व को व्यय के अनुरूप लाने के लिए खर्च में कटौती या करों में वृद्धि करके हासिल किया जाता है।
  • आर्थिक विकास पर प्रभाव (Impact on Economic Growth): संकुचनकारी राजकोषीय नीति से आर्थिक विकास में मंदी आ सकती है और संभावित रूप से आर्थिक संकुचन या मंदी का दौर आ सकता है। कुल मांग को कम करने से, व्यवसाय उत्पादन और निवेश में कटौती कर सकते हैं, जिससे आर्थिक गतिविधि कम हो जाएगी।
  • मूल्य स्थिरता (Price Stability): संकुचनशील राजकोषीय नीति का एक प्राथमिक उद्देश्य मुद्रास्फीति के दबावों पर अंकुश लगाकर मूल्य स्थिरता हासिल करना और बनाए रखना है। कुल मांग को कम करके, सरकार का लक्ष्य समग्र मूल्य स्तर को नियंत्रण में रखना है।
Difference Between Contractionary and Expansionary Fiscal Policy
  • विस्तारवादी राजकोषीय नीति (Expansionary Fiscal Policy):
आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने और आर्थिक मंदी या मंदी की अवधि के दौरान कुल मांग को बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा विस्तारवादी राजकोषीय नीति लागू की जाती है। विस्तारवादी राजकोषीय नीति का प्राथमिक लक्ष्य आर्थिक गतिविधि को बढ़ावा देना, नौकरियां पैदा करना और उपभोक्ता और व्यावसायिक खर्च को प्रोत्साहित करना है।
विस्तारवादी राजकोषीय नीति की प्रमुख विशेषताओं में शामिल हैं:
  • सरकारी खर्च बढ़ाना (Increasing Government Spending): सरकार अर्थव्यवस्था में कुल मांग को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों और परियोजनाओं पर अपना खर्च बढ़ाती है। अर्थव्यवस्था में अधिक पैसा डालकर सरकार का लक्ष्य आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहित करना है।
  • घटते कर (Decreasing Taxes): सरकार डिस्पोजेबल आय बढ़ाने और उपभोग और निवेश खर्च को प्रोत्साहित करने के लिए व्यक्तियों और व्यवसायों पर कर कम करती है। कम करों के परिणामस्वरूप उपभोक्ता और व्यावसायिक खर्च बढ़ता है, जिससे कुल मांग में वृद्धि होती है।
  • बजट घाटा बढ़ना (Increasing Budget Deficits): विस्तारवादी राजकोषीय नीति के परिणामस्वरूप अक्सर बजट घाटा होता है, क्योंकि सरकारी खर्च राजस्व से अधिक होता है। इस घाटे वाले खर्च का उद्देश्य आर्थिक मंदी की अवधि के दौरान आर्थिक विकास और निवेश का समर्थन करना है।
  • आर्थिक विकास पर प्रभाव (Impact on Economic Growth): विस्तारवादी राजकोषीय नीति से आर्थिक विकास और रोजगार सृजन में वृद्धि हो सकती है। समग्र मांग को बढ़ावा देकर, व्यवसाय उत्पादन और निवेश बढ़ा सकते हैं, जिससे उच्च आर्थिक गतिविधि हो सकती है।
  • बेरोजगारी में कमी (Unemployment Reduction): विस्तारवादी राजकोषीय नीति का प्राथमिक उद्देश्य आर्थिक मंदी के दौरान बेरोजगारी को कम करना है। सरकारी खर्च में बढ़ोतरी और कम करों से रोजगार के अवसर पैदा हो सकते हैं और श्रम मांग को समर्थन मिल सकता है। Central Bank और Commercial Bank के बीच अंतर
  • बुनियादी ढाँचा निवेश (Infrastructure Investment): विस्तारवादी राजकोषीय नीति में अक्सर बुनियादी ढाँचा परियोजनाओं में निवेश बढ़ाया जाता है, जो न केवल अल्पावधि में आर्थिक गतिविधि को प्रोत्साहित करता है बल्कि लंबे समय में उत्पादकता और प्रतिस्पर्धात्मकता में भी सुधार करता है।
संकुचनकारी और विस्तारवादी राजकोषीय नीतियों के बीच अंतर:
  • उद्देश्य (Objective):
संकुचनकारी और विस्तारवादी राजकोषीय नीतियों के बीच प्राथमिक अंतर उनके उद्देश्यों में निहित है। संकुचनकारी राजकोषीय नीति का उद्देश्य कुल मांग को कम करके आर्थिक विकास को धीमा करना और मुद्रास्फीति को नियंत्रित करना है। इसके विपरीत, विस्तारवादी राजकोषीय नीति कुल मांग में वृद्धि करके आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने और बेरोजगारी को कम करने का प्रयास करती है।
  • सरकारी खर्च और कर (Government Spending and Taxes):
संकुचनकारी राजकोषीय नीति में कुल मांग को कम करने के लिए सरकारी खर्च को कम करना और/या करों को बढ़ाना शामिल है। दूसरी ओर, विस्तारवादी राजकोषीय नीति में कुल मांग को बढ़ावा देने के लिए सरकारी खर्च बढ़ाना और/या करों को कम करना शामिल है।
  • बजट घाटा और अधिशेष (Budget Deficits and Surpluses):
संकुचनकारी राजकोषीय नीति अक्सर बजट घाटे को कम करने या बजट अधिशेष प्राप्त करने के प्रयासों से जुड़ी होती है। यह सरकारी खर्च को कम करके या करों को बढ़ाकर पूरा किया जाता है। इसके विपरीत, विस्तारवादी राजकोषीय नीति आम तौर पर बजट घाटे से जुड़ी होती है, क्योंकि सरकार अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने के लिए खर्च बढ़ाती है या कर कम करती है।
  • आर्थिक चक्र (Economic Cycle):
संकुचनकारी राजकोषीय नीति का उपयोग आम तौर पर आर्थिक विस्तार और उच्च मुद्रास्फीति की अवधि के दौरान किया जाता है। इसका उद्देश्य अर्थव्यवस्था को अत्यधिक गरम होने से रोकना और मूल्य स्थिरता बनाए रखना है। विस्तारवादी राजकोषीय नीति का उपयोग आर्थिक मंदी या मंदी के दौरान आर्थिक विकास को समर्थन देने और बेरोजगारी को कम करने के लिए किया जाता है।
  • आर्थिक विकास पर प्रभाव (Impact on Economic Growth):
संकुचनकारी राजकोषीय नीति से आर्थिक विकास धीमा होने की आशंका है, जिससे संभावित रूप से आर्थिक संकुचन या मंदी का दौर आ सकता है। विस्तारवादी राजकोषीय नीति का उद्देश्य आर्थिक विकास को बढ़ावा देना और उत्पादन और रोजगार में वृद्धि करना है।
  • मूल्य स्थिरता (Price Stability):
संकुचनकारी राजकोषीय नीति का लक्ष्य मुद्रास्फीति के दबावों को नियंत्रित करके मूल्य स्थिरता हासिल करना और बनाए रखना है। विस्तारवादी राजकोषीय नीति के परिणामस्वरूप मांग-प्रेरित मुद्रास्फीति में वृद्धि हो सकती है लेकिन इसका उपयोग आर्थिक मंदी के समय में किया जाता है जब अपस्फीति दबाव एक चिंता का विषय होता है।
  • निर्धारित समय - सीमा (Time Frame):
राजकोषीय नीति उपायों के कार्यान्वयन और अर्थव्यवस्था पर उनके प्रभाव में समय लग सकता है। संकुचनकारी और विस्तारवादी दोनों ही राजकोषीय नीतियों का अर्थव्यवस्था पर पूरा प्रभाव पड़ने में देरी हो सकती है।
निष्कर्षतः, संकुचनकारी और विस्तारवादी राजकोषीय नीतियाँ दो प्रकार की राजकोषीय नीतियाँ हैं जिनका उपयोग सरकारें आर्थिक गतिविधि के स्तर को प्रभावित करने और विशिष्ट व्यापक आर्थिक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए करती हैं। संकुचनकारी राजकोषीय नीति का उद्देश्य सरकारी खर्च को कम करके और करों को बढ़ाकर आर्थिक विकास को धीमा करना और मुद्रास्फीति को नियंत्रित करना है। दूसरी ओर, विस्तारवादी राजकोषीय नीति, सरकारी खर्च में वृद्धि और करों को कम करके आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने और बेरोजगारी को कम करने का प्रयास करती है। इन दो राजकोषीय नीतियों के बीच अंतर को समझना नीति निर्माताओं और निवेशकों के लिए आर्थिक चक्र को नेविगेट करने और अर्थव्यवस्था के समग्र स्वास्थ्य का समर्थन करने के लिए महत्वपूर्ण है।

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Ads

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: