मूल्यह्रास की सीधी रेखा विधि में किसे बाहर रखा गया है? [In straight line method of depreciation which is excluded ?  In Hindi]

मूल्यह्रास, लेखांकन में एक मौलिक अवधारणा, व्यवसायों को किसी परिसंपत्ति की लागत को उसके उपयोगी जीवन पर आवंटित करने की अनुमति देती है। अपनी सरलता के लिए जानी जाने वाली सीधी-रेखा पद्धति ने इस संदर्भ में लोकप्रियता हासिल की है। हालाँकि, यह समझना महत्वपूर्ण है कि सीधी-रेखा पद्धति का उपयोग करते समय गणना से क्या बाहर रखा गया है।

स्ट्रेट-लाइन विधि को समझना (Understanding the Straight-Line Method):

बहिष्करणों (Exclusion) पर चर्चा करने से पहले, सीधी-रेखा पद्धति की मूल बातों पर दोबारा गौर करना आवश्यक है। यह विधि मूल्यह्रास की निरंतर दर मानते हुए, किसी परिसंपत्ति की लागत को उसके अनुमानित उपयोगी जीवन पर समान रूप से आवंटित करती है। सीधी-रेखा विधि का उपयोग करके मूल्यह्रास की गणना करने का सूत्र है:
Depreciation Expense=Useful LifeCost of AssetResidual Value
  • परिसंपत्ति की लागत (Cost of Asset): परिसंपत्ति की प्रारंभिक लागत या अधिग्रहण लागत।
  • अवशिष्ट मूल्य (Residual Value): उपयोगी जीवन के अंत में संपत्ति का अनुमानित मूल्य।
  • उपयोगी जीवन (Useful Life): परिसंपत्ति के सेवा में रहने के वर्षों की अनुमानित संख्या।
Straight Line Method

सीधी-रेखा विधि में बहिष्करण (Exclusion in the Straight-Line Method):

जबकि सीधी-रेखा विधि किसी परिसंपत्ति की लागत को वितरित करने का एक व्यवस्थित तरीका प्रदान करती है, इसमें अंतर्निहित सीमाएँ होती हैं, और कुछ कारकों को इसकी गणना से बाहर रखा जाता है। निम्नलिखित प्रमुख बहिष्करण हैं:
  • 1. बाजार मूल्य में उतार-चढ़ाव (Market Value Fluctuation):
सीधी-रेखा पद्धति परिसंपत्ति के बाजार मूल्य में उतार-चढ़ाव पर विचार नहीं करती है। यह आर्थिक माहौल या बाजार की स्थितियों में बदलाव के बावजूद, समय के साथ मूल्य में एक रैखिक गिरावट मानता है।
  • 2. वास्तविक उपयोग भिन्नताएँ (Actual Usage Variations):
परिसंपत्ति के वास्तविक उपयोग में बदलाव को सीधी-रेखा पद्धति में शामिल नहीं किया जाता है। चाहे परिसंपत्ति का एक वर्ष में भारी उपयोग किया गया हो और दूसरे वर्ष में कम उपयोग किया गया हो, विधि उपयोगी जीवन पर मूल्यह्रास का एक समान वितरण मानती है।
  • 3. तकनीकी अप्रचलन (Technological Obsolesce):
स्ट्रेट-लाइन विधि तेजी से तकनीकी परिवर्तनों के लिए जिम्मेदार नहीं है जो परिसंपत्ति को अप्रचलित बना सकती है। ऐसे उद्योगों में जहां प्रौद्योगिकी तेजी से विकसित होती है, यह विधि तकनीकी रूप से संवेदनशील परिसंपत्तियों के घटते मूल्य को सटीक रूप से प्रतिबिंबित नहीं कर सकती है। Straight-Line Method क्या है?
  • 4. रखरखाव और मरम्मत लागत (Maintenance and Repair Cost):
सीधी-रेखा पद्धति में नियमित रखरखाव और मरम्मत लागत पर विचार नहीं किया जाता है। हालाँकि ये लागतें परिसंपत्ति की कार्यक्षमता को बनाए रखने में योगदान करती हैं, लेकिन वे मूल्यह्रास की गणना की विधि को प्रभावित नहीं करती हैं।
  • 5. वित्तीय लागत (Financing Costs):
यह विधि पूरी तरह से परिसंपत्ति की भौतिक टूट-फूट पर ध्यान केंद्रित करती है और परिसंपत्ति के अधिग्रहण से जुड़ी किसी भी वित्तपोषण लागत पर विचार नहीं करती है। ब्याज भुगतान या वित्तपोषण शुल्क को मूल्यह्रास गणना से बाहर रखा गया है।
  • 6. मुद्रास्फीति प्रभाव (Inflation Effects):
सीधी-रेखा विधि परिसंपत्ति की लागत या उसके भविष्य के प्रतिस्थापन मूल्य पर मुद्रास्फीति के प्रभाव को ध्यान में नहीं रखती है। मुद्रास्फीति के दबाव के कारण संपत्ति का वास्तविक आर्थिक मूल्य कम बताया जा सकता है।

आधिकारिक स्रोतों का संदर्भ (Reference to Authoritative Sources):

इन बिंदुओं को पुष्ट करने के लिए, आइए आधिकारिक लेखांकन साहित्य और पाठ्यपुस्तकों का संदर्भ लें:
वित्तीय लेखा मानक बोर्ड (एफएएसबी) के अनुसार, यू.एस. आम तौर पर स्वीकृत लेखा सिद्धांतों (जीएएपी) के लिए मानक-सेटिंग निकाय, विशेष रूप से "वित्तीय रिपोर्टिंग के लिए संकल्पनात्मक ढांचे" में, सीधी-रेखा विधि को व्यवस्थित आवंटन विधि के रूप में वर्णित किया गया है। हालाँकि, यह स्पष्ट रूप से बाजार मूल्य में उतार-चढ़ाव, तकनीकी अप्रचलन, या मुद्रास्फीति प्रभाव [^1^] जैसे कारकों को संबोधित नहीं करता है।
किसो, वेयगंड्ट और वारफील्ड की पुस्तक "इंटरमीडिएट अकाउंटिंग" में, लेखक सीधी-रेखा पद्धति की सादगी और संपत्ति के उपयोगी जीवन पर मूल्यह्रास के समान आवंटन पर चर्चा करते हैं। हालाँकि, इस बात पर जोर दिया गया है कि यह विधि अलग-अलग उपयोग के पैटर्न या तेजी से तकनीकी परिवर्तन [^2^] वाली परिसंपत्तियों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकती है।

व्यवहारिक निहितार्थ (Practical Implication):

सुविज्ञ वित्तीय निर्णय लेने के लिए स्ट्रेट-लाइन पद्धति में क्या शामिल नहीं किया गया है, यह समझना महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, यदि कोई कंपनी तेजी से बदलती तकनीक के साथ एक गतिशील उद्योग में काम करती है, तो केवल सीधी-रेखा पद्धति पर निर्भर रहने से उसकी संपत्ति का वास्तविक आर्थिक मूल्यह्रास नहीं हो सकता है।
इसी तरह, ऐसे उद्योगों में जहां बाजार मूल्य महत्वपूर्ण उतार-चढ़ाव के अधीन हैं, सीधी-रेखा पद्धति के माध्यम से गणना की गई परिसंपत्तियों का पुस्तक मूल्य उनके उचित बाजार मूल्यों के साथ संरेखित नहीं हो सकता है।
निष्कर्ष (Conclusion):
निष्कर्ष में, मूल्यह्रास की सीधी-रेखा विधि, जबकि एक सरल और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला दृष्टिकोण है, में सीमाएं और बहिष्करण हैं। इसकी गणना में बाजार मूल्य में उतार-चढ़ाव, वास्तविक परिसंपत्ति उपयोग में भिन्नता, तकनीकी अप्रचलन, रखरखाव लागत, वित्तपोषण लागत और मुद्रास्फीति प्रभाव पर विचार नहीं किया जाता है। व्यवसायों के लिए अपने परिसंपत्ति प्रबंधन और वित्तीय रिपोर्टिंग के बारे में सूचित निर्णय लेने के लिए इन बहिष्करणों के बारे में जागरूक होना आवश्यक है। जबकि सीधी-रेखा पद्धति एक उद्देश्य को पूरा करती है, व्यवसायों के लिए यह मूल्यांकन करना महत्वपूर्ण है कि क्या यह उनकी विशिष्ट संपत्तियों और उद्योग की आर्थिक वास्तविकता को सटीक रूप से दर्शाता है।
References:
  • Financial Accounting Standards Board (FASB). (2018). Conceptual Framework for Financial Reporting.
  • Kieso, D. E., Weygandt, J. J., & Warfield, T. D. (2019). Intermediate Accounting. John Wiley & Sons.

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Ads

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: