सामन्यतः Peer to Peer कंप्यूटर नेटवर्क में क्लाइंट या सर्वर निर्धारित नही होता है . लेकिन इनमे प्रत्येक पियर नेटवर्क पर स्वयं ही क्लाइंट क्लाइंट या सर्वर कार्य करता है नेटवर्क का यह रूप क्लाइंट - सर्वर मॉडल से भिन्न होता है . 

Peer To Peer Network  In Hindi With Examples


इसमे कोए भी नोड नेटवर्क पर किसी भी प्रकिर्या को शुरू या समाप्त करने में सक्षम होता है पियर नोड लोकल कांफिगुरेसन , प्रोसेसिंग स्पीड , नेटवर्क बैंडविड्थ और स्टोरेज छमता में भिन्न हो सकते है इस ब्यवस्था में कंप्यूटर को आपस में में जोड़ा जाता है लेकिन यह अधिक Computers के लिए उपयोगी नहीं है , बल्कि इनमे सामान्यतः 10 computers को जोड़ा जा सकता है इसमे Any फाइल या प्रिंट सर्वर भी बनाने की आवश्यकता नहीं होती है पिअर टू पियर का मुख्या कार्य फाइल को शेयर करने का होता है




कंप्यूटर नेटवर्किंग के क्या फायदे है ?

What is peer to peer networking in hindi? 

            सामान्तः दो या दो से अधिक computers को आपस में जोड़कर उनकी फाइल्स एवं प्रिंटर को शेयर करना ही पियर टू पियर नेटवर्क का उदाहरण है पियर टू पियर में प्रत्येक कंप्यूटर अपनी सुरक्षा का स्वयं जिम्मेदार होता है यूजर डाटाबेस भी प्रतेयक कंप्यूटर पर अलग अलग होता है अर्थात decentralize होता है . अतः पियर टू पियर नेटवर्क को किसी सिंगल लोकेशन से मैनेज नहीं किया जा सकता है , पियर टू पियर का सेटअप सामान्यतः छोटी संश्था , जैसे सायबर कैफ़े में किया जा सकता है जहा नेटवर्क सिक्यूरिटी प्राथमिक नहीं होती है
PEER TO PEER NETWORK : पीयर टू पीयर नेटवर्क

ट्रांसमिशन मीडिया (TRANSMISSION MEDIA)

नेटवर्क में ट्रांसमिशन मीडिया दो कंप्यूटर को आपस में कनेक्ट करने के लिए एक फिजिकल मीडियम है . ट्रांसमिशन मीडिया वायर्ड केबल भी हो सकता है एवं वायरलेस भी हो सकता है विभिन्न ट्रांसमिशन मेदिअका अधयन्न हम आगे के सेक्शन में करेंगे




प्रोटोकॉल (PROTOCOL) 

प्रोटोकॉल नेटवर्क में स्तिथ computers के बिच कनेक्शन को स्थापित करने के लिए करने लिए सेट किया गया एक एसा रूल है जिसकी वजह से नेटवर्क कंप्यूटर एक दुसरे से कम्यूनिकेट करते हे प्रोटोकॉल को यदि दुसरे रूप में समझा जाए तो यह कंप्यूटर के लिए एक लैंग्वेज है यदि नेटवर्क में स्तिथ computers एक दुसरे से कम्यूनिकेट करना चाहते है तो तो यह जरुरी है की वे एक दुसरे की लैंग्वेज को समझ सके  अर्थात यहाँ कम्युनिकेशन रूल सभी के लिए समान होना चाहिए . विभिन्न प्रोटोकाल का अध्यन हम आगे के सेक्शन में करेंगे .....

"कंप्यूटर के लिए कौन सा हार्ड डिस्क सही है? पढ़े हिंदी में "


Peer to Peer  नेटवर्क क्या है और इसका उपयोग कैसे किया जाता है?

जैसा कि हमने पहले बताया, P2P का उपयोग सभी प्रकार के कंप्यूटिंग संसाधनों जैसे प्रोसेसिंग पावर, नेटवर्क बैंडविड्थ या डिस्क स्टोरेज स्पेस को Share करने के लिए किया जाता है। ... पीयर-टू-पीयर नेटवर्क फ़ाइल-Sharing  के लिए Compulsory  हैं क्योंकि वे कंप्यूटर से जुड़ी फाइलों को प्राप्त करने और एक साथ फाइल भेजने की अनुमति देते हैं।

उदाहरण के लिए Peer to Peer नेटवर्क क्या है?

पीयर-टू-पीयर नेटवर्क एक ऐसा नेटवर्क है जहां सभी कंप्यूटिंग डिवाइस समान हैं। प्रत्येक कंप्यूटर को नेटवर्क में अन्य कंप्यूटरों के साथ संसाधनों को साझा करने के लिए सेट किया जा सकता है। ... Peer to Peer नेटवर्क के उदाहरणों में विंडोज के लिए वर्कग्रुप, विंडोज 9x और विंडोज एनटी वर्कस्टेशन शामिल हैं।


Peer to Peer नेटवर्क का अर्थ क्या है?

 "Peer to Peer " P2P नेटवर्क में के लिए खड़ा है, "Peer " कंप्यूटर सिस्टम हैं जो इंटरनेट के माध्यम से एक-दूसरे से जुड़े हैं।Server की आवश्यकता के बिना नेटवर्क पर सिस्टम के बीच फ़ाइलें सीधे Share  की जा सकती हैं। दूसरे शब्दों में, पी 2 पी नेटवर्क पर प्रत्येक कंप्यूटर एक फ़ाइल सर्वर के साथ-साथ एक क्लाइंट भी बन जाता है।




P2P Definition in Hindi (पी 2 पी हिंदी में परिभाषा)

"Peer to Peer" के लिए खड़ा है.पी 2 पी नेटवर्क में, "Peer" कंप्यूटर सिस्टम हैं जो इंटरनेट के माध्यम से एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। Central server की आवश्यकता के बिना नेटवर्क पर सिस्टम के बीच फ़ाइलें Direct Share की जा सकती हैं। दूसरे शब्दों में, पी 2 पी नेटवर्क पर प्रत्येक कंप्यूटर एक फ़ाइल सर्वर के साथ-साथ क्लाइंट भी बन जाता है।

एक पीयर-टू-पीयर नेटवर्क में शामिल होने के लिए कंप्यूटर की एकमात्र आवश्यकताएं एक इंटरनेट कनेक्शन और पी 2 पी सॉफ्टवेयर हैं। आम पी 2 पी सॉफ्टवेयर प्रोग्रामों में काजा, लिमवायर, बेयरशेयर, मॉर्फियस और अधिग्रहण शामिल हैं। ये प्रोग्राम एक पी 2 पी नेटवर्क से जुड़ते हैं, जैसे कि "गुटरेला", जो कंप्यूटर को नेटवर्क पर हजारों अन्य प्रणालियों तक पहुंचने की अनुमति देता है।


एक बार नेटवर्क से कनेक्ट होने के बाद, पी 2 पी सॉफ्टवेयर आपको अन्य लोगों के कंप्यूटर पर फ़ाइलों की खोज करने की अनुमति देता है। इस बीच, नेटवर्क के अन्य उपयोगकर्ता आपके कंप्यूटर पर फ़ाइलों की खोज कर सकते हैं, लेकिन आम तौर पर केवल एक फ़ोल्डर के भीतर जिसे आपने साझा करने के लिए नामित किया है। जबकि पी 2 पी नेटवर्किंग फ़ाइल साझा करना आसान और सुविधाजनक बनाता है, इसके कारण बहुत सारे सॉफ्टवेयर चोरी और अवैध संगीत डाउनलोड भी हो रहे हैं। इसलिए, सुरक्षित पक्ष पर होना सबसे अच्छा है और केवल वैध वेबसाइटों से सॉफ़्टवेयर और संगीत डाउनलोड करें।
पीयर टू पीयर कम्प्यूटिंग के लाभ

पीयर टू पीयर कंप्यूटिंग के कुछ लाभ इस प्रकार हैं:



  • पीयर टू पीयर नेटवर्क में प्रत्येक कंप्यूटर स्वयं को Manage करता है। इसलिए, नेटवर्क सेट अप और रखरखाव के लिए काफी आसान है।
  • क्लाइंट सर्वर नेटवर्क में, सर्वर क्लाइंट के सभी Request को संभालता है। Peer to Peer Computing में इस Provision की आवश्यकता नहीं है और सर्वर की लागत बच जाती है।
  • Peer to Peer नेटवर्क में स्केल करना और अधिक नोड्स जोड़ना आसान है। यह केवल सिस्टम की डेटा शेयरिंग क्षमता को बढ़ाता है।
  • Peer to Peer Network में कोई भी नोड अपने कामकाज के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं है।

Peer to Peer से नुकसान


पीयर टू पीयर कंप्यूटिंग के कुछ नुकसान इस प्रकार हैं:

  • डेटा को बैकअप करना मुश्किल है क्योंकि यह विभिन्न कंप्यूटर सिस्टम में Store है और कोई Central Server नहीं है।
  • Peer to Peer Network में Overall सुरक्षा प्रदान करना मुश्किल है क्योंकि प्रत्येक System independent है और इसमें अपना डेटा है।

पीयर टू पीयर कम्प्यूटिंग की विशेषताएँ

Peer to Peer नेटवर्क की विभिन्न विशेषताएं इस प्रकार हैं:

  • Peer to Peer नेटवर्क आमतौर पर एक दर्जन या उससे कम कंप्यूटरों के समूह द्वारा बनाए जाते हैं। ये कंप्यूटर व्यक्तिगत सुरक्षा का उपयोग करके अपने डेटा को Store करते हैं लेकिन अन्य सभी नोड्स के साथ डेटा भी Share करते हैं।
  • Peer to Peer नेटवर्क में नोड दोनों Resources का उपयोग करते हैं और Resource प्रदान करते हैं। इसलिए, यदि नोड्स बढ़ते हैं, तो Peer to Peer नेटवर्क तक Resource Share करने की क्षमता बढ़ जाती है। यह क्लाइंट सर्वर नेटवर्क से अलग है जहां नोड्स बढ़ने पर सर्वर भारी हो जाता है।
  • चूंकि पीयर टू पीयर नेटवर्क में नोड क्लाइंट और सर्वर दोनों के रूप में कार्य करते हैं, इसलिए नोड्स के लिए पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करना मुश्किल है। इससे Service हमलों से इनकार किया जा सकता है।
  • अधिकांश आधुनिक ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे विंडोज और मैक ओएस में Peer to Peer नेटवर्क को लागू करने के लिए सॉफ्टवेयर हैं।

Post a comment

Blogger
  1. P2p network ki kamiya kya hai please bataiye aur yah kitna useful hota hai kya yah client server se achcha hota hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. P2p network ki kamiya kya hai yes post me updated , aap post ko ek baar dobara read kare.
      Thanks

      Delete

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Sponsorship Ad

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: