भारत सरकार की Branch Ministry of Micro, Small and Medium Enterprises, India में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों से संबंधित नियमों, विनियमों और कानूनों के निर्माण और प्रशासन के लिए सर्वोच्च कार्यकारी निकाय है।

एमएसएमई क्या है? [What is MSME?] [In Hindi]

MSME Micro, Small and Medium Enterprises (MSME) के लिए खड़ा है, जो भारत सरकार द्वारा माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज डेवलपमेंट (एमएसएमईडी) एक्ट, 2006 के साथ समझौते में पेश किया गया है, जो वस्तुओं और वस्तुओं के उत्पादन, विनिर्माण, प्रसंस्करण या संरक्षण में लगी हुई संस्थाएं हैं।
एमएसएमई क्षेत्र को भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता है जिसने राष्ट्र के सामाजिक-आर्थिक विकास में काफी योगदान दिया है। इससे रोजगार के अवसर पैदा होते हैं और पिछड़े और ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में काम होता है। सरकार की वार्षिक रिपोर्ट 2018-19 के अनुसार, वर्तमान में भारत में 6,08,41,245 एमएसएमई हैं। अपनी समझ के लिए आइए एमएसएमई की कुछ मूल बातों पर चर्चा करें, जिनमें भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास में इसके वर्गीकरण, विशेषताओं, भूमिका और महत्व शामिल हैं। CIN नंबर क्या है? [What is a CIN number?]

एमएसएमई की विशेषताएं [Features of MSMEs] [In Hindi]

एमएसएमई के कुछ आवश्यक तत्व निम्नलिखित हैं -
  1. एमएसएमई कामगारों और कारीगरों के कल्याण के लिए काम करते हैं। वे रोजगार देकर और ऋण व अन्य सेवाएं देकर उनकी मदद करते हैं।
  2. एमएसएमई बैंकों को क्रेडिट लिमिट या फंडिंग सपोर्ट देते हैं ।
  3. वे उद्यमिता के विकास के साथ-साथ इसके लिए विशेष प्रशिक्षण केंद्र (Special Training Center) शुरू करके कौशल के उन्नयन (elevation) को बढ़ावा देते हैं ।
  4. वे developmental technology, बुनियादी ढांचे के विकास और पूरे क्षेत्र के आधुनिकीकरण की ग्रेडिंग का समर्थन करते हैं
  5. एमएसएमई को घरेलू और निर्यात बाजारों तक बेहतर पहुंच के लिए उचित सहायता प्रदान करने के लिए जाना जाता है ।
  6. वे Modern Testing Facilities और Quality Certification Services भी प्रदान करते हैं।
  7. हाल के रुझानों के बाद, एमएसएमई अब Product development, design innovation, intervention और पैकेजिंग का समर्थन (Support) करते हैं।

भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एमएसएमई का महत्व [Importance of MSMEs for Indian Economy]

दुनिया भर में, एमएसएमई को आर्थिक विकास (economic development) के साधन के रूप में और समान विकास को बढ़ावा देने के लिए स्वीकार किया जाता है । वे अर्थव्यवस्था में विकास की उच्चतम दर उत्पन्न करने के लिए जाने जाते हैं । एमएसएमई ने कम निवेश, लचीले संचालन और उपयुक्त देशी प्रौद्योगिकी विकसित (Indigenous Technology Developed) करने की क्षमता की आवश्यकताओं के माध्यम से भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है ।
  1. एमएसएमई लगभग १२०,०,० व्यक्तियों को रोजगार देते हैं, जो कृषि के बाद दूसरा सबसे बड़ा रोजगार पैदा करने वाला क्षेत्र बन गया है ।
  2. पूरे देश में लगभग 45 लाख इकाइयों के साथ, यह विनिर्माण (manufacturing) से सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 6.11% और सेवा गतिविधियों से सकल घरेलू उत्पाद का 24.63% योगदान देता है।
  3. एमएसएमई मंत्रालय का लक्ष्य 2025 तक जीडीपी के प्रति अपने योगदान को 50% तक बढ़ाने का है क्योंकि भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लिए आगे बढ़ता है
  4. कुल भारतीय निर्यात का लगभग 45% योगदान
  5. एमएसएमई विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में समाज के कमजोर वर्गों से संबंधित लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान करके सर्वसमावेशी विकास (all-inclusive development) को बढ़ावा देते हैं ।
  6. टियर-2 और टियर-3 शहरों में एमएसएमई लोगों के लिए बैंकिंग सेवाओं और उत्पादों का उपयोग करने के अवसर पैदा करने में मदद करते हैं, जो अर्थव्यवस्था के लिए एमएसएमई के योगदान को अंतिम रूप से शामिल करने के लिए राशि कर सकते हैं ।
  7. MSME Budding Entrepreneurs को रचनात्मक उत्पादों के निर्माण में मदद करने के लिए एक अवसर प्रदान करके नवाचार को बढ़ावा देते हैं और इस तरह व्यापार में प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देते हैं और विकास को बढ़ावा देते हैं ।

क्या एमएसएमई को उदयम पंजीकरण के लिए अपडेट किया गया है? [Has MSME been updated for Udayam registration?]

जी हां, एमएसएमई रजिस्ट्रेशन की जगह UYM Registration करा दिया गया है। यदि कोई सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग कोई व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं; उन्हें एमएसएमई/उदयम रजिस्ट्रेशन के साथ रजिस्ट्रेशन करने की जरूरत है । एमएसएमई/उदयम रजिस्ट्रेशन के साथ यह रजिस्ट्रेशन पूरी तरह ऑनलाइन है। यह सुविधा कारोबारी को काफी लाभ और सब्सिडी देती है।
एमएसएमई क्या है? [What is MSME?]

मौजूदा और नए व्यवसायों दोनों लागू कर सकते हैं? [Can both existing and new businesses apply?]

हां, एक मौजूदा और नया व्यवसाय एमएसएमई/उदयम पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकता है, बशर्ते मौजूदा इकाई काम कर रही हो और पंजीकरण के लिए सीमा को पूरा करे । एमएसएमई का लाभ लेने के लिए UAM Registration के लिए फिर से रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

प्रमाण पत्र की वैधता क्या है? [What is the validity of the certificate?]

उदयम पंजीकरण प्रमाण पत्र की कोई अवधि समाप्त नहीं हुई है। जब तक इकाई नैतिक और आर्थिक रूप से स्वस्थ है तब तक प्रमाण पत्र की कोई समाप्ति नहीं होगी । Cash Credit और Overdraft में क्या अंतर है?

एमएसएमई के लिए क्रेडिट रेटिंग महत्वपूर्ण क्यों है? [Why is credit rating important for MSMEs?]

एमएसएमई क्षेत्र में ऋण प्रवाह को सुगम बनाने और ऋण देने वाले संस्थानों के आराम के स्तर को बढ़ाने के लिए, प्रतिष्ठित क्रेडिट रेटिंग एजेंसियां एमएसएमई इकाइयों की क्रेडिट रेटिंग करती हैं। इस रेटिंग को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए । इसके अलावा, बैंकों को सलाह उपलब्धता के आधार पर इन रेटिंग पर विचार करना है और इस प्रकार एमएसएमई इकाइयों को उधार लेने के लिए सौंपी गई रेटिंग के आधार पर ब्याज दरों की एक उपयुक्त संरचना बनाना है ।

एमएसएमई का पूर्ण रूप क्या है? [What is the full form of MSMEs?]

एमएसएमई का संक्षिप्त नाम सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (Micro, Small and Medium Enterprises) के लिए है। एमएसएमई की नई परिभाषा जुलाई 2020 में पेश की गई थी जिसमें विनिर्माण और सेवाओं की ओर से पहले एमएसएमई के वर्गीकरण को विनिर्माण उद्यम और उद्यम प्रतिपादन सेवाओं के रूप में नामित किया गया था। सूक्ष्म उद्यम के न्यूनतम कारोबार में संशोधन किया गया, क्योंकि संयंत्र और मशीनरी/उपकरणों में 1 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश नहीं किया गया । जबकि, 250 करोड़ रुपये तक के मध्यम उद्यमों के लिए वार्षिक टर्नओवर में भी संशोधन किया गया। व्यवसाय कैसे शुरू करें? [How to Start a Business?]

Post a comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Sponsorship Ad

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: