Digital footprint या डिजिटल छाया(Digital Shadow) इंटरनेट पर या डिजिटल उपकरणों पर प्रकट होने वाली ट्रेस करने योग्य डिजिटल गतिविधियों(Digital Activities), कार्यों(Works), योगदान(contribution) और संचार(ideas) के आपके Unique set को संदर्भित करता है।




Digital footprint क्या है? [What is digital footprint? in Hindi]

डिजिटल फ़ुटप्रिंट इंटरनेट का उपयोग करते समय आपके द्वारा बनाए गए डेटा का एक निशान(Mark) है। इसमें आपके द्वारा देखी जाने वाली वेबसाइटें, आपके द्वारा भेजे गए ईमेल और ऑनलाइन सेवाओं(Online services) के लिए आपके द्वारा सबमिट की गई जानकारी शामिल है।
What is digital footprints in hindi

एक "Passive Digital footprint एक डेटा निशान है जिसे आप अनायास ही ऑनलाइन छोड़ देते हैं। उदाहरण के लिए, जब आप किसी वेबसाइट पर जाते हैं, तो वेब सर्वर आपके आईपी पते(IP address) को लॉग कर सकता है, जो आपके इंटरनेट सेवा प्रदाता(service provider) और आपके अनुमानित स्थान(Estimated location) की पहचान करता है। हालांकि आपका आईपी पता(IP address)बदल सकता है और इसमें कोई व्यक्तिगत जानकारी शामिल नहीं है, फिर भी इसे आपके Digital footprint का हिस्सा माना जाता है। आपके passive Digital footprint का एक अधिक व्यक्तिगत पहलू आपका खोज इतिहास(Search History) है, जिसे लॉग इन करते समय कुछ खोज इंजनों(Search Engine) द्वारा सहेजा जाता है।

एक "Active Digital footprint" में वह डेटा शामिल है जिसे आप जानबूझकर ऑनलाइन जमा करते हैं। ईमेल भेजने से आपके सक्रिय Digital footprint में योगदान होता है, क्योंकि आप उम्मीद करते हैं कि डेटा किसी अन्य व्यक्ति द्वारा देखा और / या बचाया जाए। आप जितना अधिक ईमेल भेजेंगे, आपका डिजिटल फुटप्रिंट बढ़ता जाएगा। चूंकि अधिकांश लोग अपने ईमेल को ऑनलाइन सहेजते हैं, इसलिए आपके द्वारा भेजे जाने वाले संदेश(Message) आसानी से कई वर्षों या उससे अधिक समय तक ऑनलाइन रह सकते हैं।

एक ब्लॉग प्रकाशित करना और सोशल मीडिया अपडेट पोस्ट करना आपके Digital footprint का विस्तार करने का एक और लोकप्रिय तरीका है। हर वह ट्वीट जो आप ट्विटर पर पोस्ट करते हैं, हर स्टेटस अपडेट जिसे आप फेसबुक पर प्रकाशित करते हैं, और आपके द्वारा इंस्टाग्राम पर शेयर की गई हर तस्वीर आपके डिजिटल फुटप्रिंट में योगदान देती है। जितना अधिक आप सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटों पर समय बिताएंगे, आपका डिजिटल फुटप्रिंट उतना ही बड़ा होगा। यहां तक ​​कि एक पेज या फेसबुक पोस्ट को "Like करना" आपके Digital footprint में जोड़ता है, क्योंकि डेटा फेसबुक के सर्वर पर सहेजा जाता है।
इंटरनेट का उपयोग करने वाले सभी लोगों के पास एक Digital footprint है, इसलिए इसके बारे में चिंतित होना कुछ नहीं है। हालांकि, यह विचार करना बुद्धिमान है कि आप किस डेटा को पीछे छोड़ रहे हैं। उदाहरण के लिए, आपके Digital footprint को समझना आपको एक डरावनी ईमेल(Scary email) भेजने से रोक सकता है, क्योंकि संदेश(Message) हमेशा के लिए ऑनलाइन रह सकता है। यह भी हो सकता है कि आप सोशल मीडिया वेबसाइटों पर जो प्रकाशित(Publish) करते हैं, उसमें आप अधिक समझदार हों। जब आप अक्सर सोशल मीडिया साइटों से सामग्री(Content) को हटा सकते हैं, तो एक बार डिजिटल डेटा ऑनलाइन साझा(Share) किए जाने के बाद, ऐसी कोई गारंटी नहीं है कि आप कभी भी इसे इंटरनेट से हटा पाएंगे।

Digital footprint का क्या अर्थ है? [What does digital footprint mean? in Hindi]

Digital footprint उपयोगकर्ता(Users) की गतिविधियों(Activity), कार्यों, संचार या डिजिटल मीडिया में लेनदेन का एक अनूठा डेटा ट्रेस(Unique data trace) है। यह डेटा ट्रेस इंटरनेट, कंप्यूटर, मोबाइल डिवाइस या अन्य माध्यमों पर छोड़ा जा सकता है। उपयोगकर्ता की गतिविधियों और उपकरणों को ट्रैक करने के लिए एक डिजिटल फुटप्रिंट का उपयोग किया जा सकता है। एक उपयोगकर्ता Digital Footprint को Active या Passive रूप से छोड़ सकता है, लेकिन एक बार साझा(Share) करने के बाद, एक Digital Footprint Nature में लगभग स्थायी है।



डिजिटल फुटप्रिंट का उपयोग कैसे किया जाता है?[How is digital footprint used? in Hindi]

आपके Digital footprint का उपयोग अक्सर आपके बारे में व्यक्तिगत जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है, जैसे जनसांख्यिकी, धर्म, राजनीतिक संबद्धता या रुचियां। उपयोगकर्ता की गतिविधि को ट्रैक करने के लिए आपकी पहली यात्रा(first visit) के बाद आपके कंप्यूटर पर छोटी फ़ाइलों वाली वेबसाइट स्टोर की जानकारी का उपयोग करके जानकारी एकत्र की जा सकती है।

मैं अपना Digital footprint कैसे छिपा सकता हूं? [How can I hide my digital footprint? in Hindi]

यहां बताया गया है कि आप अपने Digital Footprint के निशान(Symbol) को कैसे छिपा सकते हैं
  •  सोशल मीडिया अकाउंट के प्राइवेसी पालिसी को जाचे। 
  • किसी भी वेबसाइट पर अपनी डिटेल शेयर करने से पहले जांच ले। 
  • वीपीएन(वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) यूज करे। 
  • अपनी ऑनलाइन एक्टिविटी को छुपाये। 
  • अनोनिमस ब्राउज़िंग(Anonymous Browsing) का उपयोग करे। 


Reactions:

Post a comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Sponsorship Ad

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: