what is the switch in hindi

नेटवर्क पर बढ़ते हुए लोड और ट्रैफिक को सम्भालने का काम अकेला हब नहीं कर सकता है हब का काम आसान करने के लिए स्विच का प्रयोग किया जाता है स्विच नेटवर्क को सँभालने के साथ साथ हब का भी कार्य कर सकता हे इस नेटवर्क में ही के हब बीच में लगा कर जाने वाला अनावस्यक डाटा कम किया जा सकता हे जिससे की नेटवर्क गति बढती हे
  
स्विच : Networking Device








      हब और स्विच में कुछ ध्यान देने लायक अंतर है सर्वप्रथम यह है की हब में आने वाला कनेक्शन यदि 100MBPS का है और यदि उसमे 8 पोर्ट कार्य कर रहे है तो प्रत्येक प्पोर्ट को मिलने वाला कनेक्शन 100/8 के अनुसार 12.5 MBPS ही होगा , जबकि स्विच में प्रत्येक पोर्ट हब की तरह कार्य करता है इसमे प्रत्यके पोर्ट को प्राप्त होने वाला कनेक्शन 100MBPS ही होगा स्विच में धीमी गति का इनपुट भी पहचान लिया जाता है और उसके अनुसार कार्य किया जाता हे साथ ही स्विच को सॉफ्टवेर के दवरा कॉन्फ़िगर भी किया जा सकता है यह सॉफ्टवेर स्विच के साथ ही आता है इस सॉफ्टवेर के दवरा किया जा रहा सभी कार्य देखा जा सकता हे 
Switch with  Example



Reactions:

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

नए पोस्ट की जानकारी सीधे ई-मेल पर पायें

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: