जब हमें दो या अधिक नेटवर्क के हिस्सों को जोड़ना होता हे तो हम ब्रिज का प्रयोग करते हे यह कनेक्टिविटी डिवाइस किसी रिपीटर की तरह ही कार्य करती हे जिसमे डाटा पैकेट से उसके जाने के निर्धर्तित स्थान का पता भी बढाया जा सकता हे. इस पराक्र यह डाटा पैकेट को सावधनी पूर्वक समझ कर अनावस्यक डाटा पैकेट को नेटवर्क ट्रैफिक में जाने से रोकता हे , हालाकि इसके कारण नेटवर्क की गति थोड़ी सी प्रभवित होती है क्योकि इसे सारे पैकेट को पढने में थोडा समय लगता है यह डाटा लिंक करने के लिए अच्छी डिवाइस है. लेकिन इसकी कीमत थोड़ी अधिक होती है 





ब्रिज  : Networking Device


What is The Bridge? [Bridge क्या है?]

डेटा लिंक लेयर पर एक Bridge Operated होता है। एक bridge एक Repeater है, Source और Destination के MAC Address को पढ़कर सामग्री को Filter की कार्यक्षमता पर Joint देता है। इसका उपयोग एक ही प्रोटोकॉल पर काम करने वाले दो LAN को आपस में जोड़ने के लिए भी किया जाता है। इसमें एक Single Input और Single Output Port है, इस प्रकार यह 2 पोर्ट डिवाइस बनाता है।


Type of Bridge Hindi


Transparent bridge: - ये ऐसे Bridge हैं जिनमें Station पूरी तरह से अनजान हैं Bridge का अस्तित्व यानि कि Bridge को नेटवर्क से जोड़ा या हटाया जाता है या नहीं, का पुनर्निर्माणStation अनावश्यक है। ये Bridge दो प्रक्रियाओं का उपयोग करते हैं यानी ब्रिज फ़ॉरवर्डिंग और ब्रिज लर्निंग।

Source Routing Bridge: - इन Bridge में, Routing Operation Source Station द्वारा किया जाता है और Frame specified करता है कि किस रूट को फॉलो करना है। हॉट एक विशेष फ्रेम भेजकर फ्रेम की खोज कर सकता है जिसे डिस्कवरी फ्रेम कहा जाता है, जो Destination तक सभी Potential paths का उपयोग करके पूरे नेटवर्क से फैलता है।




Reactions:

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

नए पोस्ट की जानकारी सीधे ई-मेल पर पायें

Sponsorship Ad

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: