एक इलेक्ट्रिकल केबल क्या है?(What is an electrical cable?in hindi)

इलेक्ट्रिकल  Power के Transmission और Distribute के लिए उपयोग की जाने वाली केबल को Electric power cable के रूप में जाना जाता है। इसका उपयोग उन स्थानों पर High Voltage के Transmission के लिए किया जाता है जहां ओवरहेड लाइनें उपयोग करने के लिए Impractical हैं।


पावर केबल तीन मुख्य घटकों से बना है, अर्थात्, Conductor, dielectric, and sheath। केबल में करंट के लिए Conductor path कंडक्टर द्वारा प्रदान किया जाता है। Insulation or dielectric stop service voltage देता है और अन्य वस्तुओं के साथ लाइव कंडक्टर को अलग करता है। Sheath moisture को प्रवेश करने की अनुमति नहीं देता है और Chemical or electro chemical हमले और आग जैसे सभी बाहरी प्रभावों से केबलों की रक्षा करता है।

जैसा की हम जानते हे की केबल दो या अधिक तारो का ग्रुप होता हे उसी प्रकार कंप्यूटर केबल भी होती है और जैसा की हम अब तक जान चुके है की इनके द्वारा डेटा एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर के NIC tak  पहुचता हे जहा इन्हें अगली प्रोसेसिंग के लिए स्वीकार किया जाता है

      शुरुआत में कंप्यूटर में जब से NIC का प्रयोग होना शुरू हुआ है , तब से अब तक बहुत से परिवर्तन हुए है पुरानी तकनीक और वर्तमान की तकनीक के बीच हुए परिवर्तोनो के कारण ही अब तक कई प्रकार की केबल्स का अविष्कार किया गया है जो की क्रमश प्रयोग हुए है जैसे की पहले BNC केबल का प्रयोग होती थी , तत्पश्चात UTP या CAT-5 और आज फाइबर ऑप्टिकल केबल पाँव पसार रही है
नेटवर्क केबल- Type of Network Cable in hindi

क्या है BNC

इसका पूरा नाम British Novel Connecter (केबल) है. जो की को- एक्सियल केबल जैसे RG-58 A/U होती है इस को को- एक्सियल केबल के बीच में कॉपर केबल होता है , जिसके चारो तरफ 50 ॐ का डाई- इलेक्ट्रिक इंसुलेशन होता है , डाई एल्क्ट्रिक उस तत्व को कहते हे जो विद्युत् का कुचालक होता हे तत्पश्चात इसके ऊपर चारो तरफ canducter का घेरा होता हे , तत्तपश्चात इसके ऊपर चारो तरफ का cunducter का घेरा होता है और फिर सबसे अंत में इंसुलेटर होता है.

क्या है UTP केबल

इसका पूरा नाम unshilded twisted pair connecter होता हे ट्विस्टेड पेयर केबल का नाम इसमे प्रयुक्त तारो के एक दुसरे के चारो तरफ लिपटे होने से ट्विस्ट पड़ा है इनके लिपटे होने से क्रॉसटाक और नॉइज़ होने की संभावना कम हो जाती है उच्च क्वालिटी के ट्विस्टेड पेयर में प्रति इंच में 3 ट्विस्टेड होते है
      देखने में यह केबल लगभग टेलीफोन के केबल की तरह दीखता है , लेकिन वास्तव में इस केबल में अन्दर तारो की संख्या 2 ना होकर 8 होती है और कंनेक्टेर में भी आठ पिने होती है
      इन केबल में कुल चार पेयर होती है जिन्हें चार अलग अलग रंगों में बाटा जाता है ये चार रंग भूरा , हरा , , नारंगी , नीला होता है . शेष चार तार सफ़ेद भूरा , सफ़ेद हरा , सफ़ेद नारंगी , सफ़ेद नीले रंग की होती है ब्यवस्थित रूप से प्रयोग करने पर नेटवर्क की गति हमें 10/100 मेगाबिट पार्टी सेकंड तक प्राप्त हो सकती है






क्या है फाइबर ऑप्टिक केबल

केबल भी नेटवर्क मीडिया की तरह प्रयोग किया जाने लगा है . फाइबर ऑप्टिकल तकनीक में सुचना को काच या प्लास्टिक के तार या फाइबर के दवरा प्रकाश के रूप में स्थनान्तरित करते है इस व्यवस्था में पारम्परिक ताम्बे की तारो की तुलना में काफी अधिक सुचना भेजी जाती है . आजकल इसका प्रयोग बहुत सी टेलीफोन कंपनी कर रही है हामारे देश में भी यह तकनीक बहुत तेजी कसे पाँव पसार रही है जैसे रिलायंस कंपनी अपने नेटवर्क के लिए पारम्परिक ताम्बे के तारो लो जगह फाइबर ऑप्टिकल का प्रयोग कर रही है
      दरसल इसके प्रयोग का सबसे बड़ा फायदा यह है की इससे हमें नेटवर्क की अबतक की सबसे अधिक गति प्राप्त होती है और डेटा में अधिक नुक्सान किये बिना नेटवर्क की सीमा भी दूर हो जाती है . इसी प्रकार ताम्बे के तारो प्रयोग की तुलना में इसके प्रोयोग में “रिपीटर्श” की संख्या कम और उनके बीच की दुरी बढ़ जाती है जिससे कुल लागत में भी कमी आजाती है रिपीटर्श वो डिवाइस है जो कुछ दुरी के बाद सिग्नल को बूस्ट या रिफ्रेश करने के लिए प्रयोग किया जाता है

Types of Electrical Cable(विद्युत केबल के प्रकार)

Various applications के लिए हर जगह विभिन्न प्रकार के केबल्स का उपयोग किया जाता है। सभी केबल एक ही Applications नहीं करते हैं। एक केबल का कार्य केबल के प्रकार पर निर्भर करता है। विद्युत केबल एक इन्सुलेट कोटिंग द्वारा संरक्षित एल्यूमीनियम या तांबे के तारों से बने होते हैं जो सिंथेटिक पॉलिमर से बने हो सकते हैं।
Cables are classified into 5 types depending upon their purpose as follows:(केबलों को उनके उद्देश्य के आधार पर 5 प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है:)




  • रिबन इलेक्ट्रिक केबल्स

इसमें एक से दूसरे के समानांतर चलने वाले कई Insulated wire होते हैं और एक साथ कई डेटा के संचरण के लिए उपयोग किए जाते हैं। उदाहरण के लिए, यह सीपीयू को मदरबोर्ड से जोड़ने के लिए उपयोग किया जाता है और आमतौर पर नेटवर्किंग उपकरणों के इंटरकनेक्शन के लिए उपयोग किया जाता है।




  • शील्ड केबल्स

इसमें 1 या 2 इंसुलेटेड तार होते हैं जो बेहतर सिग्नल ट्रांसमिशन के लिए एक बुने हुए शील्ड शील्ड या Aluminum mylar foil से ढके होते हैं और Radio power और External interference में Irregularities को दूर करते हैं। ये केबल उच्च वोल्टेज विद्युत प्रवाह को संचारित करते हैं और एक ढाल द्वारा संरक्षित होते हैं।




  • ट्विस्टेड पेअर केबल  

इसमें दो या अधिक Insulated copper के तार होते हैं जो एक दूसरे के साथ Twisted हैं और Color Coding होते हैं। इस प्रकार के तारों का उपयोग आमतौर पर टेलीफोन केबलों में किया जाता है और External Interface के प्रतिरोध को तारों की संख्या से मापा जा सकता है।




  • को-एक्सियल केबल 

इसमें तांबे के साथ चढ़ाया हुआ ठोस तांबा या स्टील कंडक्टर होता है जो धातु के ब्रैड और धातु टेप में attached होता है। यह पूरी तरह से एक Insulated Protective Outer Jacket के साथ कवर किया गया है। इस प्रकार के केबल का उपयोग कंप्यूटर नेटवर्किंग और ऑडियो-वीडियो नेटवर्किंग के लिए किया जाता है।




  • फाइबर ऑप्टिक्स केबल

इस प्रकार के केबल होते हैं जो एक Attached light source से प्राप्त डिवाइस में Optical Data Signal को transport करते हैं। 


समान्यत ये दो प्रकार के होते है.
  • सिंगल मोड फाइबर
  • मल्टी मोड फाइबर

सिंगल मोड फाइबर का प्रयोग लम्बी दुरी के नेटवर्क में किया जाता है जबकि मल्टी फाइबर का प्रयोग छोटी दुरी के नेटवर्क में किया जाता है
नोट:- यदि हमें दो या दो से अधिक कंप्यूटर को आपस में जोड़ना चाहते हे तो हमें नेटवर्किंग डिवाइस की आवश्यकता होगी जो हम आगे के सेशन में सीखेंगे 


Reactions:

Post a comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Sponsorship Ad

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: