एक Repurchase Agreement, जिसे रेपो, आरपी, या बिक्री और पुनर्खरीद समझौते के रूप में भी जाना जाता है, मुख्य रूप से सरकारी प्रतिभूतियों में अल्पकालिक उधार का एक रूप है।

रेपो रेट क्या है? [What is Repo rate? In Hindi]

रेपो दर से तात्पर्य उस दर से है जिस पर वाणिज्यिक बैंक अपनी प्रतिभूतियों को हमारे देश के केंद्रीय बैंक यानी भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को तरलता (Liquidity) बनाए रखने के लिए, धन की कमी के मामले में या कुछ वैधानिक उपायों के कारण बेचकर पैसा उधार लेते हैं। यह मुद्रास्फीति को नियंत्रण में रखने के लिए आरबीआई के मुख्य उपकरणों में से एक है।

रेपो रेट कैसे काम करता है? [How does repo rate work? In Hindi]

जब आप बैंक से पैसा उधार लेते हैं, तो लेन-देन पर मूल राशि पर ब्याज लगता है। इसे क्रेडिट की लागत के रूप में जाना जाता है। इसी तरह, बैंक भी नकदी की कमी के दौरान आरबीआई से पैसा उधार लेते हैं, जिस पर उन्हें सेंट्रल बैंक को ब्याज देना पड़ता है। इस ब्याज दर को रेपो रेट कहा जाता है।
Repo Rate क्या है?
तकनीकी रूप से, रेपो का अर्थ है 'पुनर्खरीद विकल्प' या 'पुनर्खरीद समझौता'। यह एक समझौता है जिसमें बैंक रातोंरात ऋण प्राप्त करते समय आरबीआई को पात्र प्रतिभूतियां जैसे ट्रेजरी बिल प्रदान करते हैं। उन्हें पूर्व निर्धारित मूल्य पर पुनर्खरीद करने का समझौता भी होगा। इस प्रकार, बैंक को नकद और केंद्रीय बैंक को सुरक्षा मिलती है।

'रेपो रेट' की परिभाषा [Definition of "Repo Rate" In Hindi]

रेपो दर वह दर है जिस पर किसी देश का केंद्रीय बैंक (भारत के मामले में भारतीय रिजर्व बैंक) धन की किसी भी कमी की स्थिति में वाणिज्यिक बैंकों को पैसा उधार देता है। मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए मौद्रिक अधिकारियों द्वारा रेपो दर का उपयोग किया जाता है।

रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट [Repo Rate and Reverse Repo Rate] [In Hindi]

रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट केंद्रीय बैंकों और अन्य बैंकिंग संस्थानों द्वारा अपनी दैनिक अल्पकालिक तरलता का प्रबंधन करने के लिए उपयोग किए जाने वाले उपाय हैं।
रेपो दर वह ब्याज दर है जिस पर वाणिज्यिक बैंक केंद्रीय बैंक यानी भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) से पैसा उधार लेते हैं। आरबीआई वाणिज्यिक बैंकों को सरकारी प्रतिभूतियों के एवज में पैसा उधार देता है।
रिवर्स रेपो दर वह ब्याज दर है जिस पर वाणिज्यिक बैंक केंद्रीय बैंक के पास अपनी जमा राशि रखते हैं। अधिशेष धन के मामले में, अधिकांश बैंकिंग संस्थानों द्वारा अपने धन को सुरक्षित करने के लिए यह एक सुरक्षित तरीका है। दूसरे शब्दों में, रिवर्स रेपो दर जमा राशि पर अर्जित ब्याज है।
रेपो दर और रिवर्स रेपो दर के बीच महत्वपूर्ण अंतर यह है कि, रेपो दर में ब्याज आरबीआई द्वारा वाणिज्यिक बैंकों को ऋण देकर अर्जित किया जाता है और रिवर्स रेपो दर में, वाणिज्यिक बैंकों द्वारा आरबीआई के पास जमा धन पर ब्याज अर्जित किया जाता है।
रिवर्स रेपो रेट का उपयोग अर्थव्यवस्था में तरलता को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है और रेपो दर का उपयोग मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। केंद्रीय बैंक हमेशा रिवर्स रेपो रेट को रेपो रेट से कम रखते हैं। Rent Seeking क्या है?

रेपो रेट बनाम बैंक रेट [Repo Rate Vs Bank Rate] [In Hindi]

रेपो रेट के मामले में आरबीआई सरकारी प्रतिभूतियों को खरीदकर वाणिज्यिक बैंक को पैसा उधार देता है। और बैंक दर के मामले में, वाणिज्यिक बैंक बिना किसी सरकारी प्रतिभूतियों को बेचे केंद्रीय बैंक यानी आरबीआई से ऋण ले सकते हैं।
बैंक दर सीधे उपभोक्ता को प्रभावित करती है क्योंकि यह एक महत्वपूर्ण कारक है जो यह तय करता है कि लोगों को किस ब्याज दर पर ऋण दिया जाना चाहिए। वहीं रेपो रेट का सीधा असर जनता पर नहीं पड़ता है.

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Sponsorship Ad

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: