बेसिक ईपीएस (प्रति शेयर कमाई) क्या है? हिंदी में [What is Basic EPS (Earning Per Share) ?  In Hindi]

बेसिक ईपीएस (Earning Per Share) एक वित्तीय मीट्रिक है जो किसी कंपनी द्वारा प्रति शेयर के आधार पर अर्जित लाभ को मापता है। यह एक गणना है जो आमतौर पर निवेशकों और विश्लेषकों द्वारा किसी कंपनी की लाभप्रदता और विकास की क्षमता का मूल्यांकन करने के लिए उपयोग की जाती है।
सरल शब्दों में, बेसिक ईपीएस एक विशिष्ट अवधि के दौरान अर्जित लाभ की राशि है, जो बकाया शेयरों की संख्या से विभाजित है। इससे निवेशकों को अंदाजा हो जाता है कि कंपनी अपने स्टॉक के प्रत्येक शेयर के लिए कितना लाभ कमा रही है।
EPS (Earning Per Share) in hindi
मूल ईपीएस की गणना करने के लिए सूत्र इस प्रकार है:
Basic EPS = (Net Income - Preferred Dividends) / Average Number of Shares Outstanding
शुद्ध आय कंपनी द्वारा मापी गई अवधि के दौरान अर्जित कुल लाभ है, जबकि पसंदीदा लाभांश पसंदीदा शेयरधारकों को भुगतान किए गए लाभांश हैं। बकाया शेयरों की औसत संख्या मापी जा रही अवधि के दौरान बकाया शुरुआती और अंतिम शेयरों का औसत है।
उदाहरण के लिए, यदि किसी कंपनी की शुद्ध आय $1 मिलियन है और उसके 500,000 शेयर बकाया हैं, तो उसका मूल EPS $2 होगा। इसका मतलब है कि कंपनी ने स्टॉक के प्रत्येक शेयर के लिए $2 का मुनाफा कमाया। OIBDA क्या है?
बेसिक ईपीएस एक महत्वपूर्ण मीट्रिक है क्योंकि यह निवेशकों को प्रति शेयर के आधार पर किसी कंपनी की लाभप्रदता का मूल्यांकन करने में मदद करता है। कंपनी के वित्तीय स्वास्थ्य और विकास की क्षमता की अधिक संपूर्ण तस्वीर प्रदान करने के लिए इसका उपयोग अक्सर अन्य वित्तीय अनुपातों और मैट्रिक्स के संयोजन में किया जाता है।
हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बेसिक ईपीएस कई मेट्रिक्स में से एक है, जिस पर निवेशकों को किसी कंपनी का मूल्यांकन करते समय विचार करना चाहिए। कंपनी के वित्तीय स्वास्थ्य और विकास की क्षमता की अधिक संपूर्ण तस्वीर प्राप्त करने के लिए इसका उपयोग अन्य वित्तीय अनुपातों और मेट्रिक्स, जैसे मूल्य-से-कमाई अनुपात (पी/ई अनुपात) के संयोजन में किया जाना चाहिए।

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Ads

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: