हिंदी में सार्वजनिक कंपनी बनाम निजी कंपनी के बीच अंतर [Difference between Public Company vs Private Company in Hindi]

सार्वजनिक और निजी कंपनियाँ दो अलग-अलग प्रकार के व्यवसाय हैं जो विभिन्न स्वामित्व और कानूनी संरचनाओं के तहत काम करते हैं। इस लेख में, हम सार्वजनिक कंपनियों और निजी कंपनियों के बीच के अंतरों पर चर्चा करेंगे।

सार्वजनिक कंपनियां (Public Company):

एक सार्वजनिक कंपनी एक प्रकार का निगम है जिसने जनता को स्टॉक के शेयर जारी किए हैं और स्टॉक एक्सचेंज या ओवर-द-काउंटर मार्केट में कारोबार किया जाता है। इन कंपनियों को संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रतिभूति और विनिमय आयोग (एसईसी) जैसे नियामक निकायों द्वारा निर्धारित सख्त नियमों और वित्तीय रिपोर्टिंग आवश्यकताओं का पालन करना आवश्यक है।
सार्वजनिक कंपनियां बड़ी संख्या में शेयरधारकों के स्वामित्व में हैं, और उनके शेयरों का खुले बाजार में स्वतंत्र रूप से कारोबार किया जाता है। शेयर आम तौर पर निवेश करने में रुचि रखने वाले किसी भी व्यक्ति द्वारा खरीद के लिए उपलब्ध होते हैं, और शेयरों की कीमत बाजार की आपूर्ति और मांग से निर्धारित होती है।
सार्वजनिक कंपनियाँ अक्सर बड़ी होती हैं और उनके पास निजी कंपनियों की तुलना में अधिक संसाधन होते हैं। उनके पास सार्वजनिक पेशकश के माध्यम से पूंजी तक अधिक पहुंच है और वे अन्य कंपनियों या संपत्तियों को प्राप्त करने के लिए मुद्रा के रूप में अपने शेयरों का उपयोग कर सकते हैं।
Difference between Public Company vs Private Company in Hindi

निजी कंपनियां (Private Company):

एक निजी कंपनी एक प्रकार का निगम है जो सार्वजनिक रूप से कारोबार नहीं करता है और निवेशकों या शेयरधारकों के एक छोटे समूह के स्वामित्व में है। ये कंपनियाँ सार्वजनिक कंपनियों के समान सख्त नियमों और वित्तीय रिपोर्टिंग आवश्यकताओं के अधीन नहीं हैं, हालाँकि उन्हें अभी भी लागू कानूनों और विनियमों का पालन करना चाहिए।
निजी कंपनियों के पास सीमित संख्या में शेयरधारक हो सकते हैं, और उनके शेयरों का सार्वजनिक स्टॉक एक्सचेंज में कारोबार नहीं होता है। इन कंपनियों के पास अक्सर अधिक बारीकी से आयोजित स्वामित्व संरचना होती है और इसका स्वामित्व किसी एक व्यक्ति या परिवार के पास हो सकता है।
निजी कंपनियों का आमतौर पर अपने संचालन पर अधिक नियंत्रण होता है और सार्वजनिक कंपनियों के समान स्तर की जांच के बिना निर्णय ले सकती हैं। वे अक्सर अधिक फुर्तीले होते हैं और बाजार में होने वाले परिवर्तनों के लिए शीघ्रता से प्रतिक्रिया करने में सक्षम होते हैं।
हालांकि, सार्वजनिक कंपनियों की तुलना में निजी कंपनियों की आम तौर पर पूंजी तक सीमित पहुंच होती है। उन्हें अक्सर अपने संचालन और विकास के वित्तपोषण के लिए निजी निवेश, बैंक ऋण या धन के अन्य स्रोतों पर निर्भर रहना पड़ता है। EPS (Earning Per Share) क्या है?
सारांश में, सार्वजनिक कंपनियाँ और निजी कंपनियाँ दो अलग-अलग प्रकार के व्यवसाय हैं जो विभिन्न स्वामित्व और कानूनी संरचनाओं के तहत काम करते हैं। सार्वजनिक कंपनियों का स्टॉक एक्सचेंज में कारोबार होता है और सख्त नियमों के अधीन होता है, जबकि निजी कंपनियां सार्वजनिक रूप से कारोबार नहीं करती हैं और उनके संचालन पर अधिक नियंत्रण होता है लेकिन पूंजी तक उनकी सीमित पहुंच होती है।

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Ads

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: