लेखांकन विधि क्या है? हिंदी में [What is Accounting Method ? In Hindi]

लेखांकन पद्धति एक व्यावसायिक इकाई के वित्तीय लेनदेन की रिकॉर्डिंग, रिपोर्टिंग और विश्लेषण की व्यवस्थित प्रक्रिया को संदर्भित करती है। इसमें नियमों और सिद्धांतों का एक सेट शामिल होता है जो किसी कंपनी द्वारा बिक्री, खरीद, भुगतान और प्राप्तियों जैसे वित्तीय लेनदेन को रिकॉर्ड करने के तरीके को नियंत्रित करता है। लेखांकन पद्धति व्यवसायों को उनके वित्तीय प्रदर्शन पर नज़र रखने और उनकी कर देनदारियों को निर्धारित करने में मदद करती है। दो प्राथमिक लेखांकन विधियाँ हैं: प्रोद्भवन लेखा और नकद लेखा।
प्रोद्भवन लेखांकन एक लेखांकन पद्धति है जो राजस्व और व्यय को रिकॉर्ड करता है जब वे खर्च किए जाते हैं, भले ही वास्तविक नकद लेनदेन कब हो। दूसरे शब्दों में, राजस्व को तब पहचाना जाता है जब इसे अर्जित किया जाता है, और खर्च तब दर्ज किया जाता है जब वे खर्च किए जाते हैं, भले ही नकद प्राप्त या भुगतान किया गया हो। उदाहरण के लिए, एक कंपनी बिक्री करते समय राजस्व के रूप में बिक्री दर्ज करेगी, भले ही ग्राहक ने अभी तक उत्पाद या सेवा के लिए भुगतान नहीं किया हो। इसी तरह, जब खर्च किए जाते हैं तो उन्हें रिकॉर्ड किया जाएगा, जैसे कि जब किसी कंपनी को आपूर्तिकर्ता से चालान प्राप्त होता है, भले ही भुगतान बाद की तारीख तक नहीं किया गया हो।
दूसरी ओर, नकद लेखांकन राजस्व और व्यय को केवल तभी रिकॉर्ड करता है जब नकद प्राप्त या भुगतान किया जाता है। यह प्राप्त होने पर राजस्व को पहचानता है और भुगतान किए जाने पर व्यय को पहचानता है। उदाहरण के लिए, यदि किसी कंपनी को जनवरी में किसी उत्पाद या सेवा के लिए भुगतान प्राप्त होता है, तो वह जनवरी में राजस्व दर्ज करती है, भले ही बिक्री दिसंबर में हुई हो। इसी तरह, अगर कोई कंपनी अगले तीन महीनों के लिए किराए का अग्रिम भुगतान करती है, तो यह उस महीने के खर्च को रिकॉर्ड करती है, जब भुगतान किया जाता है, न कि जब किराया देय होता है।
What is Accounting Method  In Hindi
प्रत्येक लेखा पद्धति के अपने फायदे और नुकसान हैं। प्रोद्भवन लेखांकन किसी कंपनी की वित्तीय स्थिति और समय की अवधि में प्रदर्शन की अधिक सटीक तस्वीर प्रदान करता है, क्योंकि यह सभी लेन-देन को रिकॉर्ड करता है, न कि केवल जब नकदी का आदान-प्रदान होता है। इस पद्धति का उपयोग अक्सर बड़े व्यवसायों द्वारा किया जाता है, जिन्हें लंबे समय तक अपने वित्तीय प्रदर्शन को ट्रैक करने की आवश्यकता होती है। दूसरी ओर, नकद लेखांकन सरल और बनाए रखने में आसान है, जिससे यह छोटे व्यवसायों के लिए एक लोकप्रिय विकल्प बन गया है। हालाँकि, यह किसी कंपनी के दीर्घकालिक वित्तीय प्रदर्शन की सटीक तस्वीर प्रदान नहीं कर सकता है, क्योंकि यह केवल नकद लेनदेन रिकॉर्ड करता है।
Accrual और Cash accounting के अलावा, अन्य लेखांकन विधियाँ भी हैं, जैसे संशोधित नकद लेखांकन और संकर लेखांकन। संशोधित नकद लेखा प्रोद्भवन और नकद लेखा का एक संयोजन है, जहां कुछ लेनदेन एक संचय आधार पर दर्ज किए जाते हैं, जबकि अन्य नकद आधार पर दर्ज किए जाते हैं। हाइब्रिड अकाउंटिंग विभिन्न अकाउंटिंग मेथड्स का एक संयोजन है, जैसे राजस्व के लिए प्रोद्भवन अकाउंटिंग और खर्चों के लिए कैश अकाउंटिंग। Debt Financing बनाम Equity Financing क्या है?
लेखा पद्धति कंपनी की वित्तीय प्रबंधन प्रणाली का एक महत्वपूर्ण घटक है। सही लेखांकन पद्धति का चयन व्यवसाय के आकार और जटिलता के साथ-साथ इसकी वित्तीय रिपोर्टिंग और कर आवश्यकताओं पर निर्भर करता है। चुनी गई लेखांकन पद्धति के बावजूद, किसी भी व्यवसाय की सफलता के लिए सटीक और समय पर वित्तीय रिपोर्टिंग आवश्यक है।

Post a Comment

Blogger

Your Comment Will be Show after Approval , Thanks

Ads

 
[X]

Subscribe for our all latest News and Updates

Enter your email address: